आश्रय राग क्या है - Ashray raag kya hai?

आश्रय राग क्या है

आश्रय राग क्या है - Ashray raag kya hai?

अक्सर लोग यह सोचते हैं कि सबसे पहले थाट की रचना हुई है उसके बाद राग की रचना हुई होगी। इसका मुख्य कारण यह है कि वह समझते हैं भूपाली राग कल्याण थाट से उत्पन्न हुआ है। 
वास्तव में यह बात बहुत भ्रामक है। 
होना यह चाहिए कि कल्याण थाट से उत्पन्न माना गया है, न कि उत्पन्न हुआ है।

थाट बनने के बहुत पहले से राग रागनी की रचना हो चुके हैं। 
कुछ समय बाद राग रागिनी पद्धति की अवैज्ञानिकता सिद्ध किए जाने पर थाट वर्गीकरण के अंतर्गत समस्त रागों को 10 भागों में विभाजित कर दिया गया।

थाटों का नाम अलग-अलग रखने के लिए हमारे शास्त्रकारों ने यह सोचा कि प्रत्येक थाट से उत्पन्न माने गए सबसे अधिक प्रसिद्ध राग का नाम उसके थाट को दे दिया जाए।

आश्रय राग वे राग हैं जिनके आधार पर थाटों का नामकरण हुआ है। थाट 10 माने गए हैं, अतः 10 आश्रय राग भी हैं- कल्याण, बिलावल, खमाज, भैरव, भैरवी, आसावरी, काफी, पूर्वी, मरवा और तोड़ी।

Post a Comment

0 Comments