Raag Hameer Parichay Vandish notetions Taan | राग हमीर परिचय बन्दिस तान और अलाप

 राग हमीर परिचय बन्दिस तान और अलाप 
Raag Hameer Parichay Vandish notetions Taan | राग हमीर परिचय बन्दिस तान और अलाप


राग हमीर  -  

इस राग में दोनों मध्यम अर्थात दोनों म  प्रयोग  है तथा अन्य सारे स्वर शुद्ध प्रयोग किये जाते है। पंचम अर्थात प आरोह में वर्जित है। 

वादी -   धैवत अर्थात ध 
संवादी -  गांधार अर्थात ग 
गायन समय - 
आरोह - सा रे ग म ध नि सां। 
अवरोह -  सां नि ध प मे  प ग म रे सा। 


 {  मे = तीव्र म (मध्यम)  }








त्रिताल मध्यलय 

      च  |  ल  हाँ  -  स |   री-   -  -  उ  |   ठ   बा-   --    व   |
      मे  |  प   ग  -  म  |  निध   -  -  ध  |  नि  धनि    सांरे  सां  |
O          3                    X                  2

री$    $   $    बा  |   $  ज   $  र   |  ही  $    $  म  |  धु   बा   $   सु  |
सांनि  धप  मेप   ग  |   म   रे  नि  रे   |  सा  -    -  ग   |  म  निध   -   नि  |
O                         3                     X                    2           

री  $  $  $  |  च   ल   च   ल   |  री   $   सु   न    |  बा-  $   त   ह |
सां  -  -   -  |  ध   नि  सां   रें   |  सां  नि  ध   प    |  मेध   मेप  ग  म |
O                3                      X                        2

मा-     $     री-  च  |  ल  हाँ   $   सां |
धनि    सांनि   धप   मे  |  प   ग    -    मे |
O                           3



O = खाली
X = सम 

Post a Comment

0 Comments